समृद्धि और धन के लिए: Laxmi Kamal Plant Benefits in Hindi | Full Information About Lakshmi Kamal Plant in 2023


Laxmi Kamal Plant Benefits in Hindi

समृद्धि और धन के लिए: Laxmi Kamal Plant Benefits in Hindi | Full Information About Lakshmi Kamal Plant in 2023

इस ब्लॉग में, हम सुंदर लक्ष्मी कमल के पौधे (Laxmi Kamal Plant in Hindi), लक्ष्मी कमल के पौधे के लाभ (Laxmi Kamal Plant Benefits in Hindi)और लक्ष्मी कमल के पौधे की देखभाल (Laxmi Kamal Plant Care in Hindi) के बारे में चर्चा करने जा रहे हैं।

सकुलेंट पौधे, अन्य प्रकार के पौधों की तुलना में मोटे पत्तों और तनों वाले पौधे होते हैं। अंग्रेजी शब्द “सकुलेंट” लैटिन शब्द “सकस” से लिया गया है जो रस या रस भरे पौधों को दर्शाता है।


अधिकांश सकुलेंट पौधे शुष्क क्षेत्रों में उगाए जाते हैं जहाँ पानी की बहुत कम पहुँच होती है। ठीक वैसे ही जैसे लक्ष्मी कमल के पौधे को उगने के लिए कम पानी और अधिक मात्रा में धूप की आवश्यकता होती है। लक्ष्मी कमल वहाँ फलते-फूलते हैं जहाँ उच्च तापमान और कम वर्षा होती है। भारत के लोग देवी लक्ष्मी के लिए भी इस सकुलेंट पौधे की पूजा करते हैं।

अन्य नाम ग्रेप्टोपेटलम मैकडॉगल्ली , लक्ष्मी कमल प्लांट
कद 2 से 5 cm के बीच
जैविक नाम ग्रेप्टोपेटलम मैकडॉगल्ली (Graptopetalum Macdougallii)
पौधा परिवार क्रसुलासी (Crassulaceae)
किस क्षेत्र में उगाया जाता है भारत, मेक्सिको, एरिज़ोना, उत्तरी अमेरिका
सूरज की रोशनी की आवश्यकता 5 – 7 घंटे
बढ़ने के लिए तापमान 15 - 35 डिग्री सेल्सियस की सीमा में
बढ़ने का मौसम मार्च
फलने का मौसम मार्च से अगस्त
प्रसिद्ध नाम सकुलेंट पौधे, भूत का पौधा
Laxmi Kamal Plant

तेजस्वी सकुलेंट पौधा, लक्ष्मी कमल का पौधा छाया और सूरज दोनों में पनपता है। इसकी कठोरता और विभिन्न परिस्थितियों में पनपने की क्षमता इसकी लोकप्रियता में योगदान करती है। लक्ष्मी कमल के पौधे को केवल थोड़ी मात्रा में पानी और थोड़ी धूप की आवश्यकता होती है।

लक्ष्मी कमल के पौधे के पत्ते चमकीले हरे रंग के होते हैं। पत्ती की पंखुड़ियाँ ज्यादातर आकार में लांसोलेट ( lanceolate) होती हैं। सरल शब्दों में, पत्तियां जीभ की तरह दिखती हैं और बढ़ते मौसम के दौरान तेजी से फैलती हैं।

इन फूलों के डंठल 2 से 5 cm की ऊँचाई तक पहुँच सकते हैं। लेकिन एक विशेष फूल के मौसम में एक बार में केवल 10 फूल ही उग सकते हैं।

याद रखने की कुछ ख़ास बाते

लक्ष्मी कमल का पौधा कैसे लगाएं? (How to grow the Laxmi Kamal Plant in Hindi)

लक्ष्मी कमल का पौधा बीज के बजाय प्रजनन द्वारा अच्छी तरह से बढ़ता है। लक्ष्मी कमल के पौधे को बीज से उगाने के लिए बहुत अधिक देखभाल की आवश्यकता होती है। किसी स्टोर से बीज खरीदें, बीज को एक छोटे गमले में लगाएं और उन्हें कम से कम मात्रा में पानी दें। बाद में आप लक्ष्मी कमल के पौधे को काट के उगा सकते है।

लक्ष्मी कमल के पौधे का उपजाना (Propogation of Lakshmi kamal Plant in Hindi)

Prorogation of Lakshmi kamal Plant in Hindi

लक्ष्मी के पौधे को उगाने का सबसे तेज़ तरीका है कि पौधे की एक छोटी पत्ती को काटकर अलग से लगा दें। छोटे नए पत्ते काटकर, एक नए पूर्ण आकार के पौधे में उगाए जाते हैं। यहाँ कुछ चरणों का बताया गया है कि आप पत्ती को प्रजनन की मदद से लक्ष्मी कमल का पौधा कैसे उगा सकते हैं।

Step 1: हमेशा यह सुनिश्चित करें कि आप बड़े और लम्बे स्मय से उगे हुए पौधे से एक नया पौधा बना रहे हैं क्योंकि भले ही आप उनमें से 2-3 पत्तियों को काट दें, उसके बाकि पत्ते पेड़ को सहारा देंगे।

Step 2: याद रखें नए पत्तों के नीचे लगभग ½ इंच तना छोड़ दें।

Step 3: कटी हुई पत्ती को 2 से 3 दिनों के लिए सूखने के लिए छोड़ दें ताकि वह फिर से रोपण के लिए तैयार हो सके।

Step 4: पौधा लगाने के लिए गमला तैयार करना शुरू करें और उसमें थोड़ी सी खाद के साथ सामान्य मिट्टी भर दें।

Step 5: पत्ती की कटिंग को गमले में लगाएं और सुनिश्चित करें कि पत्तियों का तना मिट्टी से लगभग ½  इंच नीचे हो।

Step 6: मिट्टी को नम रखने के लिए पौधे को थोड़ा पानी दें। गमले में बहुत अधिक पानी न भरें क्योंकि लक्ष्मी कमल के पौधे को बढ़ने के लिए बहुत कम पानी की आवश्यकता होती है।

Step 7: 1 सप्ताह बाद आप पौधों से जड़ों को उगते हुए देख सकते हैं।

Step 8: पौधे को हर 5-6 दिनों के बाद पानी दें और तेज धूप में रखें।

लक्ष्मी कमल के पौधे के लाभ - Laxmi Kamal Plant Benefits in Hindi

Laxmi Kamal Plant Benefits in Hindi

लक्ष्मी कमल में चमकीले हरे पत्ते और खूबसूरत मैरून टिप्स होते हैं जो लोगों की दृष्टि को आकर्षित करते हैं। पौधा पूरी तरह से विकसित हो जाने पर कुछ फूल भी देता है। लक्ष्मी का पौधा दुनिया भर में प्रसिद्ध है क्योंकि इसे कम देखभाल की आवश्यकता होती है और यह आसानी से फैल सकता है। आइए एक नजर डालते हैं लक्ष्मी कमल के पौधे के फायदों पर।

1. बढ़ने और प्रजनन करने में आसान (Easy to Grow and Propagate)

लक्ष्मी के पौधे को आप कटिंग की सहायता से आसानी से प्रजनन कर सकते हैं। लक्ष्मी कमल के पौधे को देखभाल की अधिक आवश्यकता नहीं होती है और यह केवल एक वर्ष में पूरी तरह से बड़ा हो सकता है। आपको बस एक छोटा सा नया पत्ता काटना है और उसे मिट्टी में लगाना है। प्रजनन की पूरी जानकारी के लिए आप इसे प्रजनन  में पढ़ सकते हैं।

2. देखभाल करने में आसान (Easy to Care)

पौधे को थोड़ी मात्रा में देखभाल की आवश्यकता होती है। लक्ष्मी कमल का पौधा विभिन्न प्रकार की जलवायु और तापमान में आसानी से बढ़ सकता है। यह छाया के साथ-साथ तेज धूप में भी उग सकता है। पौधे को विकास के लिए थोड़ी मात्रा में धूप की भी आवश्यकता होती है।

3. इंडोर प्लांट (Indoor Plant)

लक्ष्मी कमल का पौधा एक सुंदर रसीला पौधा है जो बिना धूप के घर के अंदर उग सकता है। इसकी छायादार क्षेत्र में भी बढ़ने की क्षमता के कारण इसे एक लोकप्रिय हाउस प्लांट के रूप में जाना जाता है।

4. समृद्धि और पाजिटिविटी लाता है (Brings Wealth & Positivity)

कुछ लोगों का मानना है कि लक्ष्मी का पौधा अपने घर या कार्यस्थल में लगाने से आपके घर में सुख-समृद्धि आती है। अपने ऑफिस के पास लक्ष्मी कमल का पौधा लगाने की भी सलाह दी जाती है क्योंकि यह पाजिटिविटी है और व्यक्ति काम पर फोकस कर सके।

5. धार्मिक लाभ (Religious Benefits)

ऐसा माना जाता है कि पौधे को देवी लक्ष्मी के लिए भी माना जाता है जो धन और समृद्धि की देवी हैं। इसलिए कहा जाता है कि अपने घर में धन लाने के लिए लक्ष्मी कमल का पौधा अपने घर में रखें।

“भगवत गीता” में उल्लेख किया गया है कि मनुष्य को लक्ष्मी कमल के पौधे की तरह ही किसी व्यक्ति या वस्तु से प्रभावित हुए बिना अपने कर्तव्यों का पालन करना चाहिए।

जैसे पौधे की पत्तियाँ रोसेट) rosette( की तरह एक साथ बढ़ती हैं और जुड़ी होती हैं, एक पौधे का निर्माण करती हैं, लेकिन अगर आप पूरी तरह से विकसित पौधे से पत्तियों में से एक को भी अलग करके मिट्टी में डाल दें, तो यह फिर से अच्छी तरह से फैल सकता है, एक और पौधा बनाने के लिए। भगवत गीता कहती है, कि मनुष्य को भी एक साथ बढ़ने और एक दूसरे का समर्थन करने के लिए एक साथ निर्माण करने की आवश्यकता है, लेकिन अगर किसी भी मामले में, कोई आपसे अलग हो जाता है, तो उसे पौधे की तरह ही अपनी पहचान बनाने की आवश्यकता होती है।

लक्ष्मी कमल के पौधे की देखभाल कैसे करें? (Care of Lakshmi Kamal Plant in Hindi)

Care of Lakshmi Kamal Plant in Hindi

अन्य पौधों की तरह, लक्ष्मी के पौधों को भी सही ढंग से प्रजनन करने पर कम देखभाल की आवश्यकता होती है। पर्याप्त धूप और कम पानी आपके लक्ष्मी पौधे को स्वस्थ रखने के लिए आवश्यक हैं। आइए हम कुछ विशिष्ट लक्ष्मी कमल के पौधे की देखभाल की शर्तों को देखें जो एक स्वस्थ लक्ष्मी कमल के पौधे को विकसित करने के लिए आवश्यक हैं।

सूरज की रोशनी धूप (Sunlight)

लक्ष्मी कमल के पौधे को धूप की बहुत आवश्यकता होती है, इसलिए पौधे को तेज धूप में रखने की सलाह दी जाती है। पौधे को लगभग 5-7 घंटे तेज धूप की आवश्यकता होती है। पौधे बाहरी धूप में अच्छी तरह से विकसित होते हैं लेकिन आप इन्हें अपने घर की खिड़की या कांच के पास भी लगा सकते हैं।

लक्ष्मी कमल का पौधा छायादार क्षेत्र में भी जीवित रह सकता है। अगर आप इन्हें घर के अंदर लगते है, तो आप केवल लक्ष्मी कमल के पत्तों के रंग में अंतर देख सकते हैं। इसे प्राप्त होने वाले धूप के आधार पर रंग गहरे से हल्के रंग का हो सकता है।

पानी (Water):

लक्ष्मी कमल के पौधे की आवश्यकता अन्य पौधों की तुलना में बहुत कम होती है। जब मिट्टी सूखने लगे तो आप सप्ताह में एक बार अपने लक्ष्मी कमल के पौधे को पानी दे सकते हैं। सप्ताह में एक बार पानी देना मूल रूप से बाहरी पौधों में ही किया जाता है। अगर आपके पास लक्ष्मी का पौधा घर के अंदर है, तो आपको उन्हें ज्यादा पानी देने की जरूरत नहीं है।

हमेशा यह याद रखें कि अगर मिट्टी पर्याप्त सूख गई है तभी आप इसे पानी दे। पौधे को अधिक पानी न दें क्योंकि इससे पौधे की जड़ों और पत्तियों में सूजन आ सकती है।

साथ ही, मौसम भी पानी की आवश्यकता को प्रभावित कर सकते हैं। गर्म जलवायु में, आप लक्ष्मी के पौधे को हर 5 से 7 दिनों के अंतराल में पानी दे सकते हैं और सर्दियों के दौरान पौधे बिना पानी के 2 सप्ताह तक रह सकते हैं।

मिट्टी (Soil):

लक्ष्मी कमल का पौधा विशेष रूप से रेतीली मिट्टी में अच्छी तरह से विकसित हो सकता है। यह पानी को गमले में जमा होने से रोकने के लिए किया जाता है। आप बाजार से अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी खरीद सकते हैं या सीधे अपने घर पर उपलब्ध मिट्टी की मदद से बना सकते हैं।

मिट्टी बनाने के लिए आपको बस कुछ रेत, पीट, मिट्टी और खाद चाहिए। इसे अच्छे से मिलाएं। उन्हें एक हफ्ते तक स्टोर करें और सीधे पेड़ लगाने के लिए इस्तेमाल करें। अगर आप लक्ष्मी कमल को सीधे मिट्टी में लगा रहे हैं तो मिट्टी को जमीन से थोड़ा ऊपर उठाना याद रखें।

खाद (Fertilizers):

लक्ष्मी कमल का पौधा बिना खाद के अच्छी तरह विकसित हो सकता है। लेकिन, आप पौधे के बढ़ने पर या वर्ष में एक बार फूलों के मौसम में कम संख्या में खाद मिला सकते हैं। यह पौधे की वृद्धि में मदद करेगा और आपके पौधे को स्वस्थ बनाएगा।

ज्यादा खाद डालने से भी आपके पौधे खराब हो सकते है इसलिए इनका कम इस्तेमाल करें। जैविक खाद एक बेहतर विकल्प है। यदि आप पौधे के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हैं तो प्राकृतिक खाद या गोबर का उपयोग खाद के रूप में किया जा सकता है।

कीट और रोग (Pests & Diseases):

पौधों की वृद्धि को प्रभावित करने वाले कीट को माइलबग्स )mealybugs( कहते हैं जो सीधे पौधे की पत्तियों पर हमला करते हैं और जड़ तक जा सकते हैं। आप पौधों पर कीट नाशकों या अल्कोहल की थोड़ी मात्रा का उपयोग करके इन कीट से छुटकारा पा सकते हैं।

याद रखें कि अधिक मात्रा में कीटनाशकों का प्रयोग न करें। यह आपके पौधे की वृद्धि को प्रभावित कर सकता है।

लक्ष्मी कमल प्लांट प्राइस (Price of Lakshmi Kamal Plant)

लक्ष्मी कमल के पौधे की कीमत अलग-अलग ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर अलग-अलग होती है। लेकिन भारत में गमले और मिट्टी को मिलाकर लक्ष्मी कमल के पौधे की कीमत ₹250 से ₹300 तक हो सकती है।

गमले के बिना, इसकी कीमत आपको लगभग ₹60 से ₹100 तक हो सकती है। यदि आप बाजार में से लक्ष्मी कमल का पौधा खरीदने जा रहे हैं तो मोल भाव कर के इसकी कीमत आपको लगभग 100 रुपये हो सकती है।

लक्ष्मी कमल प्लांट की मुख्य विशेषताएं

Laxmi Kamal Plant से जुड़े अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

जी हां, ऐसा माना जाता है कि लक्ष्मी कमल का पौधा घर में रखने से आपके घर में सुख-समृद्धि आती है।

लक्ष्मी कमल का पौधा उत्तर-पूर्व दिशा या ईशान दिशा में रखा जाना चाहिए जो वास्तु दोष को दूर करने के लिए अच्छा होता है।

लक्ष्मी कमल का पौधा कटिंग द्वारा अच्छी तरह से विकसित होता है। प्रजनन के चरणों में शामिल हैं:

  • पौधे से एक छोटा नया पत्ता काट लें।
  • इसे 2 – 3 दिनों तक सूखने दें।
  • गमले में मिट्टी का एक छोटा सा अच्छा मिश्रण तैयार करें और नया पत्ता लगाएं।
  • इसे हर 5वें दिन पानी देकर सीधी धूप में रखें।

लक्ष्मी पौधे का वैज्ञानिक नाम ग्रेप्टोपेटलम मैकडॉगल्ली (Graptopetalum macdougallii) है।

नहीं, लक्ष्मी कमल का पौधा कैक्टस नहीं बल्कि एक प्रकार का सकुलेंट पौधा है जो 2 से 5 इंच के बीच उगता है और इसमें गहरे हरे रंग के पत्ते होते हैं जो एक रोसेट  (rosette)बनाते हैं।

Share this post

Comments (2)

  • Meena Kumari Reply

    I didnt know lakshmi kamal can bring prosperity. Odering it today!

    26/01/2024 at 9:21 am
  • Sandhya Reply

    Can you write more about Lakshmi Kamal in English too?

    29/01/2024 at 3:04 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *